Mrs Suman kanwar-29yrs-Gall stone & Leucoria

 

 

 

 

The lady was too week found in USG Abdomen suffering with Gall stones . Treatment given

cap dexorange 1 daily

tab neurobion forte  1 tab daily

dr thanki’s Leucoria Care powder      as prescribed

dr thanki’s Stone Powder

 

 

 

sumansuman1suman2suman3

Kamal Jeet Singh-Leucoria

Name:- Kamal Jeet Singh           Age:- 35Years          Add:- Pratapgarh, U.P.

 

Disease Description:- Leucoria

 

Treatment Given:-

Dr.Thanki’s Leucoria care powder:- 1tsp two times a day with water and one time vagina wash.

                                                                             Treatment Started From 11 July 2015

                                              Patient Review

new

 

new0014 new0015 new0016

Monika-Leucoria And Obesity

Name:- Monika                   Age:- 36 Years                    Add:- Delhi-32

 

Disease Description:-

Leucoria and Obesity

 

                                                                                Treatment Started From 14 June 2015

                                                Patient Review

photo of monika

 

Monika001 Monika002 Monika003 Monika004

 

Guddi Devi-Leucoria Acute

Name:- Guddi Devi                    Age:- 45Years                         Add:- Bandha, Bikaner

 

Disease Description:- Leucoria Acute with joint pain.

 

Treatment Given:-

 

                                                               Patients Review

guddi devi

Guddi devi001 Guddi devi002

Smt Manju Devi Sethia-(Acute retension of urine-already drilled four times but atlast attempt drilling of urine passage failed)

Name:- Manju Devi Sethia      Age:- 45 Years        Add:- Gangashahar,Bikaner

 

Disease Discription :-

 

Treatment Given:-

Treatment Given:-
1.Dr.Thanki’s Kidney Care Capsule:- 3cap x 4time a day=12cap daily with ‘Anupan’made by our ‘Trio Herbal Extract:- 500ml daily.
2.Chandra Prabhavati:- 2tab each time (Morning & Evening)=4tab daily.
3.Advice:- Strictly Follow Diet Char
t

 

Patient Review:-

Reviews of Sampat Mal Sethia On Behalf Of His Wife Manju Devi Sethia

 

               I am Sampat mal sethia aged 47. I am describing the disease and condition for the last 5 years. I am having two children elder is daughter and younger is son. As she married earlier as our custom With me so we both were young and did not required child so early so I have given a tablet to get rid of pregnancy at the age of 18years and 6 months. My wife age but i felt sorry for this sae so Dr. Sudhajain advices some injection to conceive baby again so after 2 years and 6 months.

               She again conceived and this time by the grace of god a got a female child. Now after 3 years again my wife conceived and I got son. After that we have around 20 years happy married life but she was clamming of burring in urine passing before six years she was having a problem of retention of urine and she was operated to get rid of problem by drilling process. Than after a interval of 2-3 years again i have to carry her for drilling as retention of urine occurred again. At last drilling was unsuccessful and she got a problem of retention of urine. The path was totally blocked.

              I was that time felt helpless but i prayed to god and one of son-in-law met i explained him problem so he took me to “Vishla Agrotech Pvt.Ltd.Old Jail Road, Bikaner” on 18-03-2014. I explained every problem to doctor. They just gave us three capsules of Dr.Thankis tumcan cap and her urine under pressure and removes along with stool in the inner garment.

              Than doctor advised to give one capsules three times a day which we are giving regularly some 20 days back we stopped medicine by the advised of Doctor but found same problem again so we started the same again and i am continuing it regularly.

 

Palace:-Bikaner                                                              -: From :-

            Date:- 13.10.2014                                                          Sampat Mal Sethia

 

Review In Hindi

               मेरा नाम संपत माल सेठिया है और मेरी उम्र 47 साल है. मैं पिछले 5 सालो से चल रही मेरी पत्नी की बीमारी और हालात के बारे में बताने जा रहा हूँ. आज मेरे एक बेटा और एक बेटी है. आज से 20 साल पहले की कहानी कुछ इस तरह से है:-

               जैसा की हमारी शादी बहुत जल्दी हो गयी थी और हम दोनों( मैं और मेरी पत्नी) युवा थे. शादी के बाद मेरी पत्नी को मात्र 18 साल और 6 माह की उम्र में गर्भ ठहर गया फिर हम दोनों ने सोचा की इस उम्र में हमे बच्चे की कोई आवश्यकता नहीं है और गर्भावस्था से छुटकारा पाने हेतु गर्भनिरोधक गोलियो का सेवन किया जिसका ये परिणाम हुआ की मेरी पत्नी को गर्भ ठहरना ही बंद हो गया और बाद में हमे इसके लिए बहुत पछतावा हुआ क्यूंकि कई कोशिशो के बाद भी हमे बच्चा नहीं हुआ इस कारण मेने डॉक्टर सुधा जैन से बच्चा होने की दवाइयां ली.

               इस बार भगवान् की कृपा से मेरी पत्नी को गर्भ ठहर गया और मेरी पत्नी ने एक बच्ची को जन्म दिया. अब 3 साल के बाद मेरी पत्नी ने फिर एक लड़के को जन्म दिया. इन सब के बाद लगभग 20 साल तक हमारी शादी शुदा जिन्दगी अच्छी तरह से चलती रही. फिर मेरी पत्नी को पेशाब करने में समस्या होने की शिकायत होने लगी और पेशाब आना बंद हो गया. अतः इस समस्या से छुटकारा पाने हेतु ड्रिलिंग द्वारा इलाज करवाया तो सब सही हो गया लेकिन 2-3 साल बाद दोबारा वही समस्या होने लगी और मैं उसे फिर से ड्रिलिंग हेतु ले गया और इस बार ड्रिलिंग असफल हो गयी और पेशाब आने का रास्ता पूरी तरह बंद हो गया और उसके बाद उसको ऐसी समस्या आई जो की मुझे भी समझ में नही आई. यानि ड्रिलिंग के दौरान पता नही क्या हुआ की वो जो भी तरल पदार्थ पीती थी वो सीधे के सीधे उसी रूप में मूत्र द्वार से बाहर निकल जाता था.

               उस वक्त मैं बहुत डर गया था और अपने आपको असहाय महसूस करने लगा और भगवान से प्रार्थना करने लगा था की हमे कुछ रास्ता दिखाये. फिर मैंने अपने एक रिश्तेदार को ये सारी समस्या बताई तो उन्होंने मुझे “विशला एग्रोटेक प्राइवेट लिमिटेड’ नामक एक कंपनी के बारे में बताया और वहा जाके इलाज करवाने को कहा. अतः दिनांक 18.03.2013 को मैं मेरी पत्नी को वहां लेके गया और अपनी सारी समस्या वहां के डॉक्टर को बताई. उन्होंने हमे डॉ. थानकी टमकेन कैप्सूल नामक एक दवाई दी और सलाह दी की एक-एक कैप्सूल दिन में तीन बार प्रतिदिन लेने है लेकिन ये नही बताया की कितनो दिनों तक ये दवाई लेनी है अतः 20 दिनों तक दवाई लेने के पश्चात् मेरी पत्नी की तबियत पूरी तरह से ठीक हो गयी और उसे एक सामान्य व्यक्ति की तरह ही पेशाब आने लगा था बाद में हमने ये दवाई लेनी बंद कर दी और इसका परिणाम ये हुआ की मेरी पत्नी को वही समस्या फिर से शुरू हो गयी थी इसीलिए हमने दोबारा से वही दवाई लेनी शुरू कर दी और लगातार ले रहे है और मेरी पत्नी की तबियत पूरी तरह से ठीक है.

manju devi reviewmanju-devi3manju-devi4

manju-devi1 manju-devi2