Yogita Barry- Antiverted Uterus

Name:- Yogita Barry                        Age:- 43 Years            Add:- Amritsar,Punjab

 

 

Disease Description:-Antiverted Uterus

 

Treatment Given:-

Dr.Thanki’s Leucoria Care:- 3 cap x 4times a day (take one glass chhach and curd)

Dr.Thanki’s Power Plus Capsule:- 1 cap before going to bed.

 

Patient Review

20150506_200246yogita0007yogita0006yogita0005yogita0004yogita0003yogita0002yogita0001

yogita

Miss Baby Agarwal-21 Yrs-Bicornuate uterus

Name:- Baby Agarwal              Age:- 21 Years             Add:-NCR,Delhi

 

Disease Description:- MILD HEPATOSPLENOMEGALY. 

 

Treatment Given:-

Afternoon:

 

Dr. Thanki’s Leucoria care powder ¾ tsp with fresh water

Dr. Thanki’s Blood Purifier Capsule 1 with fresh water

Chandraprabha Bati 2 with white butter

 

 

 

Night:

Ø  Dr. Thanki’s leucoria care powder ¾ tsp with fresh water

Ø  Dr. Thanki’s Kidney care  2 capsules with Anupaan

Ø Chandraprabha vati 2  tablets with white butter

Ø  Alkasol syrup 2 tsp with 4 tsp water

 

Patient Review:-

               I am Baby Agarwal, 21 years old, and a resident of Delhi NCR. I started having  menses since the age of 13.  And not a single period has passed without giving me pain. I’ve always had extreme pain during the first 3 days of every period. Earlier the pain was only in the lower abdomen, but since the past 5 years my lower back started paining too. Besides, I had a heavier flow than most girls perhaps. I never thought that my case was unusual although none of my friends suffered through their menses like I did. I just thought that maybe it’s just normal. I took homeopathic drops for reducing the pain in my back. They worked only temporarily and my problem remained as it is. And then, as luck would have had it, Somebody advised my father, who was on a trip to Bikaner to go consult Vishla Agrotech Pvt Limited.My father went and met the doctor there, who asked my father to get certain blood tests and sonography done immediately. All this while, I was in Delhi. So the doctor never really met me. I immediately went and got the tests done and emailed them to the doctor. And then, the doctor brought to our notice that my case wasn’t in fact that usual. I was diagnosed with Bicornuate Uterus or a Heart shaped uterus along with Leucorrhea. Fewer than one in 10000 women have this anomaly.

 

               After the diagnosis, I was asked to get a urine test done as well. The doctor prescribed the following course of medicines to be taken for one year.

Morning:

Ø   Dr. Thanki’s Leucoria care powder ¾ tsp with fresh water

Ø  Dr. Thanki’s Kidney Care  2 capsules with Anupaan

Ø  Tab Evion  400  1

Ø  Tab zyloric 100 mg  1

Ø   Chandraprabha vati 2 tablets with White butter

 

Afternon:

 

Dr. Thanki’s Leucoria care powder ¾ tsp with fresh water

Dr. Thanki’s Blood Purifier Capsule 1 with fresh water

Chandraprabha Bati 2 with white butter

 

 

  

 

Night:

Ø  Dr. Thanki’s leucoria care powder ¾ tsp with fresh water

Ø  Dr. Thanki’s Kidney care  2 capsules with Anupaan

Ø Chandraprabha vati 2  tablets with white butter

ØAlkasol syrup 2 tsp with 4 tsp water

               Note: when I was asked about Meaning of Anupan the Dr explained me that when a ayurvedic medicine is advised to take with a product like honey or butter or hot water or Luke warm water etc. they are working as catalyst to improve the result of that medicine.

For Dr Thanki’s Kidney care care capsule the mixture of the below mentioned Arq of herbs:

Arq Punarnava         50%

Arq Kasni                 25%

Arq Makoy               25%

                 I was also asked to wash my vagina with Dr. Thanki’s Leucoria care powder at least 2-3 times a day in the prescribed way. Apart from these medicines I was asked to drink 2 glasses of Cranberry juice everyday and some restrictions were placed on my eating habits. For instance, Junk food, fried food and Ice-creams were completely banned for me. Among vegetables, I was asked not to eat cabbage and cauliflower. On the other hand, because I was anemic, I was asked to eat one beetroot in salad every day. Also, since yogurt is cold and soothing, I was advised to take one serving of yogurt with my lunch. Also, I’m not allowed to drink Tea.

 

               During my menses, I was asked to take 1 tsp of Dr. Thanki’s Pilex Powder three times a day for the first three days. And after the menses were over, I was asked to take Tab Pyridium at night for 5 days during those 5 days I was instructed not to take Syp Alkasol.

 

               I started with my course on 24th of march, 2014. After two weeks I had my period. I could notice the difference immediately. The blood flow was reduced by around 15%. By the next cycle, It was further reduced. The pain was also less in these two cycles. There was No bloating, No PMS symptoms. Usually, my face became pale during menses, But thanks to the medicines and the healthy food habits, My face looked normal.  

 

               After almost 7 weeks of taking the course, The Doctor asked me to get sonography done one more time. I had little hope of any major improvement as I hadn’t read about any case of Bicornuate uterus in the world on the internet that was cured before. But, I was surprised to see that my reports came out absolutely normal! My Bicornuate uterus had become a normal, healthy uterus!

               Thank god still in this modern age where medical science has just option to remove uterus the old Ayurveda has medicine to cure.

               Secondly I even did not believe that the Dr given me medicine without seeing me personally.

               I am glad with my family members also because I get rid of a crucial disease.

               Believe on Ayurveda and get cure!

Review In Hindi

               मेरा नाम बेबी अग्रवाल है. मेरी उम्र 21 वर्ष है और मैं दिल्ली एन.सी.आर की रहने वाली हूँ. मेरे 13 साल की उम्र में ही मासिक धर्म की प्रक्रिया शुरू हो गयी थी और इस दौरान एक भी महिना ऐसा नही गुजरा जिसमे मुझे दर्द ना हुआ हो यानि की मासिक अवधि शुरू होने के प्रथम 3 दिन मुझे अत्यधिक दर्द होता था. शुरू-शुरू में तो ये दर्द पेट के निचले हिस्से में होता था परन्तु पिछले 5 वर्षो से ये दर्द पीठ के निचले हिस्से में भी शुरू हो गया. ये शायद वो दर्द था जो शायद कुछ ही लडकियों में होता था.

               मैंने कभी सोचा की मेरी ये बीमारी असामान्य है मेने सोचा की ये सब आम है. फिर मैंने अपने दर्द से छुटकारा पाने हेतु होमियोपेथी की दवाइयां ली और ये दवाइयां अस्थिर थी, मेरा मतलब लेने के दौरान दर्द नही होता था मगर बंद करने पर वापस शुरू हो जाता था.

               फिर एक दिन मेरे भाग्य ने मेरा साथ दिया और किसी ने मेरे पिताजी को बीकानेर में स्तिथ “विशला एग्रोटेक प्राइवेट लिमिटेड” के बारे में बताया और वहां जाके इलाज करवाने को कहा. फिर मेरे पिताजी बीकानेर गये और वहां के डॉक्टर से मिले. डॉक्टर ने सोनोग्राफी व् कुछ ब्लड टेस्ट(खून की जाँच) करवाने को कहा. लेकिन उस वक़्त में दिल्ली में थी और डॉक्टर मुझसे मिले भी नही थे इसलिए उन्होंने फ़ोन करके मुझे जांचे करवाने को कहा और मैंने तुरंत दिल्ली मैं सारी जरुरी जांचे करवाई और डॉक्टर को ई-मेल के द्वारा भेज दी.

               मेरी सारी जांचे देखके डॉक्टर ने कहा की मेरी बीमारी कोई सामान्य बीमारी नही थी उन्होंने बताया की मेरे गर्भाशय का आकार दिल की तरह है और इसका मुंह पूरी तरह खुल चूका है और ये बीमारी लगभग प्रति 10000 महिलाओ में से किसी एक को होती है.

               सभी जांचो के बाद मेरा यूरिन टेस्ट हुआ और डॉक्टर ने मुझे निचे लिखी दवाइयां दी जो की मेने 1 साल तक ली थी.:-

सुबह को:-

डॉ.थानकी ल्यूकोरिया केयर पाउडर :- ¾ चम्मच पाउडर साफ़ पानी के साथ.

डॉ.थानकी किडनी केयर कैप्सूल:- 2 कैप्सूल अनुपान के साथ.

Evion-400mg टेबलेट:- 1 टेबलेट.

Zyloric-100mg टेबलेट:- 1 टेबलेट.

चन्द्र प्रभावटी टेबलेट:- 2 टेबलेट सफ़ेद मक्खन के साथ.

दोपहर को:-

डॉ.थानकी ल्यूकोरिया केयर पाउडर :- ¾ चम्मच पाउडर साफ़ पानी के साथ.

डॉ.थानकी किडनी केयर कैप्सूल:- 2 कैप्सूल रोज अनुपान के साथ.

चन्द्र प्रभावटी टेबलेट:- 2 रोजाना सफ़ेद मक्खन के साथ.

Alkasol सिरप:- 2 चम्मच दवाई + चार चम्मच पानी.

नोट:- जब मेने डॉक्टर से “अनुपान” के बारे में पूछा तो डॉक्टर ने मुझे बताया की किसी भी आयुर्वेदिक दवाई की गुणवता को बढाने व् शीघ्र परिणाम पाने हेतु उसे किसी उत्पाद के साथ लेने की सलाह दी जाती है जैसे की- शहद के साथ,गर्म पानी के साथ,गुनगुने पानी के साथ,मक्खन के साथ आदि.

               अतः इसी प्रकार डॉ.थानकी किडनी केयर कैप्सूल की गुणवता को बढाने व् शीघ्र परिणाम पाने हेतु इसे तीन हर्बल अर्को के मिश्रण के साथ लेने की सलाह दी जाती है और ये अर्को का मिश्रण इस प्रकार है:-

अर्क पुनर्नवा:- 50 प्रतिशत

अर्क कासनी:- 25 प्रतिशत

अर्क मकोय:- 25 प्रतिशत

और मुझे डॉ.थानकी ल्यूकोरिया केयर पाउडर के द्वारा योनी को कम से कम दिन में 2-3 बार धोने की भी सलाह दी गयी थी.

               इन सब दवाइयों के अलावा, रोजाना दो गिलास क्रेनबेरी का ज्यूस पीने को कहा गया और कुछ चीजों को खाने पर प्रतिबंध लगाने को कहा जो की इस प्रकार है:- जंक फ़ूड, तला हुआ भोजन, आइसक्रीम आदि ये सब चीज़े मेरे लिए पूर्णत प्रतिबंधित थी और सब्जियों में मुझे गोभी और फूलगोभी भी मना थी. मेरे में खून की कमी थी इसलिए मुझे हर रोज सलाद में एक चुकन्दर खाने को भी कहा गया और साथ ही ठंडी प्रवर्ती होने के कारण दोपहर के भोजन में दही खाने की सलाह दी और चाय पीने से मना क्र रखा था.

               मासिक धर्म के दौरान प्रथम तीन दिन तक 1 चम्मच पायलेक्स पाउडर दिन में तीन बार लेने को कहा और मासिक धर्म समाप्त होने के बाद Pyridium नामक टेबलेट रात में एक बार 5 दिनों तक लेने को कहा और इन 5 दिनों के दौरान Alkasol सिरप लेने को मना कर रखा था.

                                               

               दवाइयां शुरू करने के लगभग 7 सप्ताह बाद डॉक्टर ने मुझे एक बार फिर सोनोग्राफी करवाने को कहा. हालाँकि मुझे मेरे ठीक होने की कम ही उम्मीद थी क्योंकि मेने इन्टरनेट पर मेरे जैसे कुछ रोगियों के बारे में देखा था जिनका पूर्णत इलाज नही हुआ था परन्तु जब मेरी साडी जांचे आई तो मैं ये देख कर हैरान थी की सारी जांचे बिलकुल सामान्य थी और मेरे गर्भाशय का आकर अब बिलकुल ठीक था.

               भगवान को शुक्रिया की आजकल के इस आधुनिक चिकित्सा विज्ञान के ज़माने में जो इलाज आधुनिक डॉक्टर व् उनकी दवाइयां ना कर सकी वो काम हमारी पुरानी पद्दति आयुर्वेद व् इसकी दवाईयों ने कर दिखाया. और साथ ही मैं इस बात पर भी हैरान हूँ की डॉक्टर ने मुझे बिना मिले और बिना देखें दवाइयां दी और मेरा इलाज किया. अब मैं बहुत खुश हूँ अपने परिवार के साथ और मेने एक जटिल बीमारी से भी छुटकारा पा लिया है.

अंत मैं इतना ही कहूँगी की आयुर्वेद पर विश्वास कीजिये और ठीक होइए

new0002new0001newbaby-014baby-015baby-012baby-013baby-011baby-010baby-03baby-08baby-09

baby-01
last
baby-04 baby-05 baby-06 baby-07