आज पूरी दुनिया प्रदूषण के कारण त्रस्त है।

  • 01-09-2018
  • Raj Kumar Kochar
  • 276

दुनिया भर में जहां वायु प्रदूषण सबसे विकट समस्या है वही ध्वनि प्रदूषण भी एक विकट समस्या है।ध्वनि प्रदूषण से कुछ हद तक निजात पाया जा सकता है लेकिन वायु प्रदूषण धीरे धीरे हमारे शरीर मे कार्बन di ऑक्साइड को इकट्ठा कर फेफड़े की कार्यक्षमता को क्षीण कर देता है। चूंकि बढ़ती आबादी ओर बढ़ते कल कारखाने गाडियो का धुआं इसको ओर बढ़ावा देते है।फेफड़े में रोजाना नया जमावड़ा कार्बन का हो रहा है।यदि दांत की तरह साफ किया जा सकता तो लोग इसको रोजाना साफ कर लेते लेकिन ये संभव नही है।अभी सभी उम्र के लोग श्वास की बीमारी से ग्रस्त हो रहे है। ऐसे लोगो को श्वास फूलना ,दम का बार बार उठना ,खांसी कफ सहित या कफ रहित,मौसम बदलने पर श्वसन का संक्रमण होंना, श्वास लेने पर पसलियों में दर्द होना, नजला,एलर्जी होना जैसे लक्षण दिखाई देते है। कुछ रोगियो में बचपन मे tb या बार बार न्यूमोनिया होने के कारण भी श्वशन रोग हो जाता। अस्थमा से पीड़ित व्यक्ति प्रायः पंप गोलियां या स्टेरॉयड लेते है और अंत मे इन दवाइयों के सेवन से फेफड़ा कड़क हो जाता है।फेफड़े की क्षमता ऑक्सिजन लेने की कम हो जाती है। इस रोग का जड़ से ठीक करने के लिए नीचे लिखी जड़ी बूटियां अपने निकट किसी पंसारी की दुकान से लावे उन्हें धूप में रखकर सुखाए फिर पीस कर मलमल के कपड़े से छानकर लगभग पोन्न चमच डेढ़ चमच शहद में लेप बनाकर धीरे धीरे जीभ पर चाटें। जड़ी बूटियां।।।कंटकारी, अडूसा ,भारंगी,सोमलता,हल्दी,तुलसी,अमृतासत्व,सौंठ,यष्टिमधु ,अजमोद,जुफ़ा ईरानी। यदि किसी कारण वश आपको ये उपलब्ध न हो तो तैयार लेने के लिए हमारे dr राज कुमार कोचर मोबाइल नंबर+91 9352950999 पर सम्पर्क करें। इस जड़ी बूटियों के मिश्रण में किसी भी उम्र या किसी प्रकार लाइलाज दमे को ठीक करने की शक्ति है इसमें निहित ईरानी जुफ़ा शरीर के किसी भी हिस्से में जमा कफ को एकत्रित कर मल द्वारा शरीर से बाहर निकालने की क्षमता रखता है।सर्दियों में प्रायः हर घर मे कफ सिरप की आवश्यक्ता होती है।इस मिश्रण का 6 चमच 300gm साफ पानी मे मंदी आंच पर गर्म करें जब आधा पानी उड़ जाए तब ठंडा करके कांच की बोतल में रख लेवे बाजार में उपलब्ध किसी भी कफसिरुप से ये बढ़िया काम करता है। कुछ बच्चों में बचपन से दमे की बीमारी होती है जिसको चाइल्ड अस्थमा कहते है उसमें भी लाभप्रद है। परहेज।। अचार,दही,केला,निम्बू,संतरा,icecream, चाय,गुड़,अधिक तेल मसालो का खाना।