अस्थमा (दमा) :- अब लाइलाज नहीं

  • 12-02-2019
  • जिन रोगियों को दमे की बीमारी ह
  • 140

जिन रोगियों को दमे की बीमारी होती हैं, उनके फेफड़े कमजोर होते हैं। फेफड़ें कमजोर होने की बहुत सी वजह हैं, जैसे बचपन में बार बार निमोनिया होना, ज्यादा धूम्रपान करना, टी . बी . का रोग होना , इन्फेक्शन होना , एलर्जी होना , ब्रोकोंटाईटिस होना , श्वसन तंत्र का कमजोर हो जाना आदि । 
लगातार दमे का रोग रहने पर रोगी को कॉडियक अस्थमा हो जाता है या जिन व्यक्तियों का हृदय की धमनियों में रूकावट हो , ऐसे रोगियों को भी कॉर्डियक अस्थमा हो जाता है । चूंकी दमा कफ जनित बीमारी है और यह दवा आश्चर्यजनक लाभ पहुंचाती है , अतः किसी भी व्यक्ति के कफ जनित रोग ( सदी , जुकाम , खांसी , नजला ( बलगम रहित / सहित ) , सभी में बराबर काम करती है । । कुछ रोगियों में यह देखा गया कि दमा ठीक होने पर एग्जीमा हो जाता है तथा एग्जीमा ठीक होने पर दमा हो जाता है , ऐसे रोगियों में यह दवा अभूतपूर्व लाभ पहुंचाती है तथा पुनः एग्जीमा नहीं होने देती । 
हमारी दवा पूर्णतः जड़ी बूटियों से निर्मित है साथ ही इसमें एक जड़ी 'जूफा ' नामकी है । जो रोगी के शरीर के किसी भी हिस्से में जमा अतिरिक्त कफ को इकट्ठा कर मल के साथ बाहर निकाल देती है । कुछ नवजात छोटे शिशुओं को बार - बार निमोनिया की शिकायत हो जाती है ऐसे छोटे शिशुओं को 1 / 4 चम्मच इस दवा को शहद के साथ मिलाकर पेष्ट बना कर जीभ पर चटावे उसके भी मल के साथ कफ बाहर निकल जाएगा तथा उसको बार - बार निमोनिया नहीं होगा । कुछ बच्चों में अस्थमा जैसे लक्षण या अस्थमा हो जाता है ऐसे रोग को  'Child  Asthama' कहा जाता है । वर्तमान युग के डाक्टर उन रोगियों को दवाईयों के रूप में गोलीया , सूखने के लिए या नेबुलाइजर द्वारा लेने के लिए दवाइयाँ देते है प्रायः ये दवाइयाँ Steroid युक्त होती है जो रोगी की हड़ियों को कमजोर कर देता है ऐसे रोगीयों को हमारी दवा से अभूतपूर्व लाभ देखने को मिला हैं । 
भिन्न - भिन्न चिकित्सकों ने परीक्षण किया और पाया कि हमारी दवा का एक चम्मच , डेढ चम्मच शहद के साथ पेस्ट बनाकर सुबह नास्ते के आधा घटां बाद तथा रात को सोते वक्त जीभ द्वारा चाटकर लगातार 90 दिन लेने पर काफी लाभ मिला । दुबारा लक्षण उभरने पर पुनः 90 दिन के लिए दवा दी गई देखा गया हर बार पुनः लक्षण उभरने की समयावधि बढती गई तथा लगभग दो साल से ढाई साल के बाद रोगी को पुनः ये दमे का दौरा या लक्षण नहीं दिखाई दिये अर्थात् पूरी तरह से रोग से मुक्त हो गया ।

--साथ ही दवाई लेने के लिए या special doctor से consult करने के लिए या फिर दमाअस्थमाएलर्जी से related कोई भी जानकारी/सहायता लेनी हो तो आप हमें direct 
whatsapp या call कर सकते हों...:- 7014031506, 9352950999